SEBI क्या है? SEBI के कार्य और अधिकार

SEBI क्या है? SEBI के कार्य और अधिकार – दोस्तों कैसे हैं आप सभी? आशा करता हूं आप सभी स्वस्थ होंगे। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको SEBI के बारे में जानकारी देंगे। आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे SEBI क्या है? SEBI के कार्य क्या है? SEBI के अधिकार क्या है? दोस्तों अगर आप SEBI के बारे में जानना चाहते हैं और SEBI के कार्य अधिकार के बारे में जानना चाहते हैं तो आर्टिकल को आखिरी तक पूरा पढ़िए। इस आर्टिकल में आपको SEBI से जुड़ी संपूर्ण जानकारी विस्तार से दी गई है।

दोस्तों आप सभी ने शेयर मार्केट म्यूच्यूअल फंड इन सभी चीजों के बारे में सुना होगा। यदि आपने शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड के बारे में सुना है तो आपको यह भी पता होगा कि इन सब चीजों में फ्रॉड बहुत ज्यादा होता है। शेयर मार्केट एक ऐसी चीज है कि यदि आपकी किस्मत आपका साथ दे गई तो हो सकता है आप रातो रातो लखपति बन जाए। और यदि किस्मत ने साथ नहीं दिया और आप किसी धोखे का शिकार हो गए तो हो सकता है आपके लाखों रुपए एक बार में ही आपसे दूर चले जाएं।

Read More – एलआईसी पॉलिसी में अपना मोबाइल नंबर तथा जीमेल आईडी कैसे जोड़ें?

शेयर मार्केट की दुनिया में कदम कदम पर फ्रॉड है। यदि 100 शेयर मार्केट कंपनियां हैं तो इनमें से सिर्फ 2 शेयर मार्केट कंपनियां ही भरोसेमंद हैं। यही एक वजह है कि लोग शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करना सुविधाजनक नहीं समझते हैं। पिछले कुछ वर्षों में मार्केट में इतनी सारी फर्जी कंपनियां आ गई हैं जो शेयर मार्केट के नाम पर लोगों से लाखों रुपए लेकर फरार हो गई। इसके बाद लोगों का बचा कुचा भरोसा भी शेयर मार्केट से उठ गया।

शेयर मार्केट में हो रही धोखाधड़ी को रोकने और शेयर मार्केट पर नियंत्रण रखने के लिए भारत सरकार ने एक संवैधानिक संस्था बनाई है। इसे SEBI कहते हैं। यदि आप शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करते हैं तो आपको SEBI के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

SEBI क्या है?

आइए अब हम आपका ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आपको बताते हैं SEBI क्या है? यदि आपको SEBI के बारे में नहीं पता तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं से भी एक प्रकार की सरकारी संस्था है। SEBI को भारत के प्रवर्तन मंत्रालय के द्वारा निर्देशित किया जाता है। SEBI का मुख्य काम शेयर मार्केट म्यूच्यूअल फंड या अन्य ऐसी जगह जहां पर लोगों का पैसा इनवेस्ट किया जाता है उन स्थानों की देखरेख करना लोगों के पैसे को सुरक्षित इन्वेस्ट कराना तथा धोखाधड़ी को रोकना है।

SEBI संस्था नई निर्मित म्यूच्यूअल फंड कंपनी या शेयर मार्केट कंपनी को मान्यता देने का काम करती है। यदि कोई कंपनी शेयर के माध्यम से लोगों का पैसा इन्वेस्ट कराना चाहती है तो इसके लिए पहले कंपनी को SEBI से परमिशन लेनी होगी।

सिर्फ इतना ही नहीं जब भी कोई कंपनी शेयर मार्केट में या मुटयूल फंड में लोगों का पैसा लेकर भाग जाती है तो SEBI उस मामले की जांच करती है। इसके बाद संबंधित अपराधियों को पकड़कर उनकी भूमि को नीलाम करती है और लोगों को उनका पैसा वापस देने का काम करती है।

SEBI का फुल फॉर्म क्या है?

बहुत से लोग हैं SEBI का फुल फॉर्म नहीं जानते। SEBI का फुल फॉर्म सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया होता है। इसे हम हिंदी में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड के नाम से जानते हैं।

SEBI की स्थापना कब हुई?

SEBI एक संवैधानिक पीठ है। SEBI की स्थापना 12 अप्रैल 1992 को की गई थी। SEBI का मुख्यालय मुंबई महाराष्ट्र में है।

SEBI के कार्य और अधिकार

SEBI के कार्य और अधिकार के बारे में नीचे बताया गया है। नीचे बताई गई जानकारी को पढ़कर आप समझ सकते हैं SEBI के कार्य और अधिकार क्या है?

  • किसी भी शेयर बाजार की निगरानी करना और उस में होने वाले धोखाधड़ी को रोकना।
  • मार्केट में कदम रखने वाली किसी भी शेयर कंपनी को मान्यता प्रदान करना।
  • जनता के पैसे को सुरक्षित जगह पर निवेश करवाना और किसी भी धोखाधड़ी की स्थिति में मामले की जांच करना।
  • शेयर मार्केट के लिए नए नए नियम बनाना। नियम ना मानने वालों पर कार्यवाही करना।
  • आम जनता का पैसा हड़पने वाली कंपनियों की संपत्ति को नीलाम करना और नीलाम की गई संपत्ति को निवेशकों के बैंक में भेजना।
  • लोगों का पैसा सुरक्षित तरीके से म्यूचुअल फंड में निवेश कराना और उसे सुरक्षित बनाए रखना।

निष्कर्ष

यह SEBI के कुछ मुख्य कार्य और अधिकार थे। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको एक बहुत महत्वपूर्ण विषय पर जानकारी दी। आज इस आर्टिकल में हमने आपको SEBI के बारे में बताया। इस आर्टिकल में हमने आपको बताया SEBI क्या है? SEBI के कार्य और अधिकार क्या है? आशा करता हूं यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी है इसे अपने दोस्तों के पास शेयर करें। आर्टिकल को आखरी तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *