म्यूचुअल फंड एवम् S.I P. में क्या अंतर हैं? जाने सारी जानकारी हिंदी में

म्यूचुअल फंड एवम् S.I P. में क्या अंतर हैं? जाने सारी जानकारी हिंदी में – आप सबने में म्यूच्यूअल फंड एवं एसआईपी के बारे में सुना होगा, अगर आपको इसके बारे में नहीं पता है तो हम आपको (MUTUAL FUNDAND SIP) म्यूचुअल फंड एवम् एसआई पी के बारे में विस्तार से जानकारी मिलेगी, और इनमे क्या अंतर होता है इसके बारे में जानोगे। म्यूच्यूअल फंड एवं एसआईपी के बारे में जानकारी नहीं होने के कारण इनमें अंतर नहीं कर पाते हैं।

(म्युचुअल फंड)MUTUAL FUND क्या हैं? समझें

एसआईपी से पहले म्युचुअल फंड के बारे में जानना अधिक महत्वपूर्ण है। म्यूच्यूअल फंड एक ऐसी कंपनी है जिसके द्वारा निवेशकों से रुपए लेकर उनको स्टॉक मार्केट या जहां से अधिक रिटर्न आता है उस जगह पर लगाती हैं और उन्हें प्रॉफिट देते हैं, इसमें अलग-अलग तरह के फंड होते हैं।

Read More – म्यूचुअल फंड से अमीर कैसे बने? संपूर्ण जानकारी हिन्दी में

अगर इसे आसान तरीके से समझे तो मेंचुअल फंड एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसके द्वारा निवेशकों से पैसे इकट्ठे करके , म्युचुअल फंड एक्सपर्ट स्टॉक मार्केट या फाइननेंसींग जेसी बडी कंपनियों में निवेश करके निवेशकों को रिटर्न देती हैं । म्युचुअल फंड का मूल्य trending डे के समापन पर N.A.V.के रूप में निकाला जाता हैं। इनको fund मेनेजर द्वारा चलाया जाता हैं। और फंड के एक्सपर्ट ए.एम.सी.नियोक्ति देती हैं।

म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट कैसे करें

म्युचुअल फंड में 2 प्रकार से इन्वेस्ट होता हैं,

  1. लंप सम ( lump sum)
  2. S.I.P.(एस.आई.पी.)

अगर म्युचुअल फंड आप अगर आप ज्यादा रूपों से इन्वेस्ट नहीं करना चाहते हैं तो आप कम फंड में भी इन्वेस्ट कर सकते हैं। आप lump sum या एसआईपी दोनों तरीके से इन्वेस्ट कर सकते हो।

S.I.P.(एसआईपी)

एसआईपी का अर्थ – sistmaitic inveshment plane है। Mutual fund में 1 महीने के निश्चित टाइम के अंतर में पैसा डाला जाता है, और हर महिने लगातार पैसे जमा करने पड़ते हैं। और आप एक लॉन्ग पैरेड के बाद अच्छी wealth प्राप्त कर सकते है। जो कि कम इन्वेस्ट में अच्छा रिटर्न देता हैं।

म्युचुअल फंड्स एवम एस.आई.पी.में भिन्नता

एसआईपी के द्वारा म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। म्युचुअल फंड की अधिकतर योजनाओ मे एस.आई.पी.के ज्यादा विकल्प होते हैं।

आप सभी ने म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के बारे में तो सुना है ,परंतु इसमें निवेश कैसे होता है उसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। एसआईपी के माध्यम से आप म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं । जिसमें आप कम रुपए भी इन्वेस्ट करते रहो।

ज्यादा जानकारी के लिए म्यूच्यूअल फंड वह एसआईपी को उदाहरण से समझते हैं।

जैसे कोई HDFC म्यूचुअल फंड स्कीम है जिसका नाम HDFC ब्लूंशिप फंड हैं। इसमें आप दो तरह से निवेश कर सकते हैं , प्रथम lump sum एंड इसमें एक बार इन्वेस्ट कर के छोड़ सकते है। दूसरा एसआईपी इसमें आप एक निश्चित अंतराल में पैसे इन्वेस्ट कर सकते है।

कोई नया इन्वेस्टर एसआईपी को एक अलग निवेश विकल्प सोचता हैं। जबकि ऐसा नहीं है। एसआईपी के द्वारा आप बहुत आसानी से इन्वेस्ट कर सकते हो। Mutual fund में इन्वेस्ट करने के लिए एसआईपी बेहतर हैं।

एस.आई.पी. (सिस्टेमेटिक इनेवेशमेंट प्लान)

एसआईपी म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए ऐसा प्लान है कि अगर हमारे पास ज्यादा पैसे नहीं है फिर भी एसआईपी के जरिए mutual fund में निवेश कर सकते हैं। एसआईपी 500 रू. से भी इन्वेस्ट करने का मौका देता हैं जिसके जरिए हम एक अच्छे भविष्य का निर्माण कर सकते है। यह हर महिने की निश्चित समय पर जमा करना आवश्यक है।
एस.आई.पी. से लाभ

आपने एसआईपी से म्युचुअल फंड में निवेश करने के बारे में जान लिया है, अब आप इसके क्या लाभ जाने।

  • एसआईपी बहुत अच्छा रिटर्न देता है।
  • कम पैसों से भी एसआईपी विकल्प से म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है
  • इसमें आपको एक्सपर्ट की हेल्प मिलती है।
  • एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में आप जितने टाइम तक इन्वेस्ट करोगे उतना ही प्रॉफिट कमा पाओगे।

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया कि म्यूचुअल फंड एवम् S.I P में क्या अंतर है। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पता चल गया होगा कि आखिर म्यूचुअल फंड एवम् S.I P क्या है। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप हमें कमेंट करके अपनी राय अवश्य दें धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *