फ्लेक्सी कैप फंड क्या है ?

फ्लेक्सी कैप फंड क्या है ? – आप सबने म्यूचुअल फंड के बारे में तो सुना होगा। म्यूचुअल फंड में पहले दो कैटेगरी शामिल थी। अब म्यूचुअल फंड में एक और कैटेगरी लॉन्च की है, जिसका नाम फ्लेक्सी कैप फंड न्यू कैटेगरी हैं। 2020 में मल्टी कैप बहुत सारे बदलाव हुए जिनसे malticap कम्पनी इतनी आकर्षक नई हुई। लेकिन से. बी. ने एक नई कैटगरी को लांच किया जिसका नाम फ्लेक्सी कैप फंड रखा। जिसके कारण सारी समस्या हल हो गई।

फ्लेक्सी कैप फंड क्या है?

फ्लेक्सी कैप फंड कंपनी पुरानी कंपनी को मध्यनजर रख कर निकली क्योंकि malticap में सभी चेंज फंड हाउससेज को फरवरी दो हज़ार एक्किश से पूर्व करने थे। अब जानते हैं कि फ्लेक्सी कैप फंड क्या हैं? फ्लेक्सी कैंप फंड जैसा कि नाम नाम से पता चलता है कि यह कैटेगरी अपने फंड्स चुनने के लिए फ्रिडम या flexibal रहती है।

फ्लेक्सी कैप फंड कैटेगरी 65% भाग ectivti व oriyanted fund में रहेगा। इस 65 परसेंट इससे को फंड मैनेजर की इच्छा से ही इन्वेस्ट किया जा सकता है, जो लार्ज या smoll कैंप पर इन्वेस्ट कर सके । फ्लेक्सी कैप फंड में मल्टी कैप फंड जैसे fixed alocation का rule नही है।

फ्लेक्सी कैप फंड की क्यों जरुरत पड़ी?

आपने जैसा ऊपर लेख में पड़ा कि फरवरी 2020 में मल्टी कैप कंपनी के नियमों में बदलाव किए गए थे फाइनेंस मैनेजर के सामने नए नियमों के कारण पच्चीस परसेंट समान एलोकेशन करने की प्रॉब्लम थी।

Example से जानने की कोशिश करेंगे। माना की मल्टी कैप फंड म्यूचुअल फंड में चालीस% का भाग लार्ज कैप में इन्वेस्ट किया है। अब नई शर्तो के अनुसार multicap category में पचेहतर% हिस्सा ectivity या inectivity oriyanted फंड में होना चाहिए, जिनमे लार्ज,smoll व मिडकैप तीनों में समान पच्चीस परसेंट इन्वेस्ट करना होगा।

Read More – म्यूचुअल फंड से अमीर कैसे बने? संपूर्ण जानकारी हिन्दी में

अब नई शर्तो के हिसाब से fund मेनेजर को larg camp को चालीस परसेंट से कम करके पच्चीस परसेंट करने में काफी समस्या हो सकती है। उसके साथ उसे रिलीज हुए रुपयों से न्यू स्टॉक्स का भी चयन करना पड़ेगा । अगर फंड मैनेजर के सामने ऐसी दुविधा आती हैं तो उसे अपनी मल्टी cap category को रिकॉगनाइज कर सकते है। अभी अभी मोतीलाल ओसवाल मल्टीकैप 35 जो पूर्व में एक multi cap प्लेन था और जो अब फलेक्सी कैप फंड प्लान होगा।

इन्वेस्टर की समस्या

पहले निवेशक पुरानी मल्टीकैप केटेगरी में इन्वेस्ट कर रहा था और उसकी स्कीम्स अच्छा परफॉर्म कर रहे थी। परंतु सेबी के नए शर्तों के कारण अब उसके पास दो ऑप्शन थे या तो वह पुरानी मल्टी कैप कंपनी में बनी रहे या फिर उससे बाहर होकर कोई समान portfoliyo वाली फ्लेक्सी कैप फंड का चुनाव करे ।

A.M.C./फंड हाउस के पास क्या ऑप्शन हैं जाने

एमसीसी या फंड हाउस के पास को सेबी ने ऑप्शन दिया है कि वह पुरानी मल्टी कैप shcim में बदलाव कर सकते है। यानी multi cap fund को फलेक्सि कैप फंड में बदल सकते है। अगर निवेशक इसमें बदलाव करते हैं तो उनको 30 दिन का समय होता है बिना किसी लॉड के

संक्षिप्त

अगर आप पहले से ही किसी मल्टिकैप fund में इन्वेस्ट कर रहे हो तो आप उसी के साथ ही बने रह सकते हैं परंतु उसका परफॉर्मेंस अच्छा होना चाहिए। अगर मल्टी कैप फंड फ्लेक्सी के फंड में भी परिवर्तित हो जाए फिर भी आप उसी के साथ रहे। परंतु आप नए लॉन्च हुए प्लेक्सी के फंड के इन्वेस्ट करने के बारे में सोच रहे हैं तो मैं कहूंगा कि आप इनसे अभी दूर रहिए।

अगर आपका फ्लेक्सी कैप फंड के बारे में कोई सवाल हो तो हमें नीचे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्न का जल्दी से उत्तर देने की कोशिश करेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *